Kuber Mantra to Be Richest Person in World | अरबपति बनें

Kuber Mantra to Be Richest Person in World - अरबपति बनें

📅 Sep 13th, 2021

By Vishesh Narayan

Summary Kuber Mantra to Be Richest Person in World is a sadhana to attract the highest version of abundance. Kubera is the lord of prosperity, wealth, and hidden treasures. Kubera is the God of yakshas and Kinnaras.


Kuber Mantra to Be Richest Person in the World is a sadhana to attract the highest version of abundance. Kubera is the lord of prosperity, wealth, and hidden treasures.

Kubera is the God of yakshas and Kinnaras. Kubera is a devotee of Lord Shiva and has the blessings of all the wealth in this world. Kubera is the son of sage Visravas and a Yaksha lady called Ilavidha.

The same Visravas through a Rakshasi became the father of Ravana, Kumbhakarna, Vibheeshana, and Soorpanakha.

Kubera is the guardian of the northern direction and also the God of wealth and is the owner of Nava Nidhi. Kubera is the lord of prosperity, wealth, and hidden treasures. Kubera is the God of yakshas and Kinnaras.

Kubera is a devotee of Lord Shiva and has the blessings of all the wealth in this world. Indra is the king of Devtas and ‘Swarga’.

कुबेर समृद्धि, धन और छिपे हुए धन के स्वामी हैं। कुबेर यक्षों और किन्नरों के देवता हैं। कुबेर भगवान शिव के भक्त हैं और इस दुनिया में सभी धन का आशीर्वाद है। कुबेर ऋषि विश्रवा और इलविदेह नामक एक यक्ष महिला के पुत्र हैं।

तपस्या द्वारा अर्जित शक्तियों के कारण, रावण ने कुबेर की राजधानी अलकापुरी, उनके विमान पुष्पक विमना और उनके सभी धन को छीन लिया। उन्हें राम द्वारा रावण के वध के बाद वापस दे दिया जाता है।

कुबेर उत्तरी दिशा के संरक्षक हैं और धन के देवता भी हैं और यह नव निधियों (नि: शक्त नौ खजाने) के मालिक हैं।ऐसी मान्यता है की तिरुपति के भगवान बालाजी ने अपनी शादी के लिए कुबेरसे पैसे उधार लिए थे और आज भी बालाजी की ओर से भक्तों द्वारा उनका कर्ज चुकाया जा रहा है।

दीपावली के दिन उत्तर में देवी लक्ष्मी के साथ कुबेर की पूजा की जाती है। कुबेर के कई मंत्र हैं जिनका उपयोग आय और बहुतायत के स्तर को बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जा सकता है। इस कुबेर मंत्र का प्रयोग विश्व के धनाढ्य व्यक्तियों में शामिल होने के लिए किया जाता है |

विनियोग

अस्य कुबेरमन्त्रस्य विश्रवा ऋषिः। बृहतीछन्दः। शिवमित्रधनेश्वरो देवता। ममाभीष्टसिद्ध्यर्थे जपे विनियोगः।

ऋष्यादिन्यास

ॐ विश्रवऋषये नमः शिरसि।

बृहीतछन्दसे नमः मुखे ॥

शिवमित्रधनेश्वरदेवतायै नमः हृदि।।

विनियोगाय नमः सर्वाङ्गे।।

हृदयादिषडंगन्यास

ॐ यक्षाय हृदयाय नमः ॥

ॐ कुबेराय शिरसे स्वाहा॥

ॐ वैश्रवणाय शिखायै वषट् ॥

ॐ धनधान्याधिपतये कवचाय हुम्॥

ॐ धनधान्यसमृद्धिं मे नेत्रत्रयाय वौषट् ॥

ॐ देहि दापय स्वाहा अस्त्राय फट्॥

करन्यास

ॐ यक्षायांगुष्ठाभ्यां नमः ॥

ॐ कुबेराय तर्जनीभ्यां नमः ॥

ॐ वैश्रवणाय मध्यमाभ्यां नमः ॥

ॐ धनधान्यधिपतये अनामिकाभ्यां नमः ॥

ॐ धनधान्यसमृद्धिं मे कनिष्ठिकाभ्यां नमः ॥

ॐ देहि दापय स्वाहा करतलकरपृष्ठाभ्यां नमः॥

इन मंत्रों से विधिपूर्वक न्यास करना चाहिए।

कुबेर ध्यान

मनुजवाह्यविमानवरस्थितंगरुडरत्ननिभं निधिनायकम्।

शिवसखं मुकुटादिविभूषितं वरगदे दधतं भज तुन्दिलम्॥

Vidhi - Kuber Mantra To Be Richest Person In The World

मंत्र महोदधि में वर्णित 35 अक्षरों का कुबेर मंत्र और इसका विधान यह है:

ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धनधान्याधिपतये धनधान्यसमृद्धिं मे देहि दापय स्वाहा।
om yakshaay kuberaay vaishravanaay dhanadhaanyadhipataye dhanadhaanyamrddhin me dehi daapay svaaha.

  • इसके पुरश्चरण में मंत्र के एक लाख जप का विधान है।
  • जप का दशांश होम तिल व घी से करना चाहिए।
  • इससे मंत्र सिद्ध होता है और सिद्ध मंत्र से साधक अपने प्रयोगों को सिद्ध करता है।
  • ऐसी मान्यता है कि मात्रिक को मंत्र का एक लाख जप करके उसके दशांश का तिलों से होम करना चाहिए।
  • फिर सिद्ध मंत्र से उसे प्रयोगों को सिद्ध करना चाहिए।
  • शिवालय में मंत्र का दस हजार जप करने से धनवृद्धि होती है।
  • बिल्व के वृक्ष के नीचे बैठकर मंत्र का एक लाख जप किया जाए तो उपलब्धि होती है।
  • नित्य धन प्राप्ति के लिए साधक प्राण प्रतिष्टित कुबेर यन्त्र के सामने इस कुबेर मंत्र की 5 माला नित्य प्राण प्रतिष्टित मूंगे की माला से किया जा सकता है |

Vedic Kuber Mantra


NewsLetter

New articles, upcoming events, showcase… stay in the loop!