Garuda Mala Mantra | Remove Negative Influences

Garuda Mala Mantra - Remove Negative Influences

📅 Sep 12th, 2021

By Vishesh Narayan

Summary Garuda Mala mantra assists to remove the skin problems. The mantra helps to remove the fatal diseases. This Garuda Mala mantra is used to eliminate black magic, debts, and tantra circling the sadhak.


Garuda Mala mantra helps to remove skin problems. The mantra helps to remove incurable diseases. The Mala mantra removes the problems in the immune system also.

The Mala mantra clears the veins and arteries. Simply, the Mala mantra removes any kind of negative vibes in life.

Garuda is the mount or Vahana of Lord Vishnu. Garuda is Lord Vishnu in itself. Garuda is depicted as having the golden body of a strong man with a white face, red wings, and an eagle’s beak and with a crown on his head.

This ancient deity was said to be massive, large enough to block out the sun.

The Garuda is the eternal enemy of snakes and protects them from poison and other negative influences. This Garuda Mala mantra is used to remove black magic, debts, and tantra surrounding the sadhak.

This Garuda mala mantra has tremendous benefits to a sadhak. The Garuda Mala mantra helps to remove the poison in the body.

How to Chant the Garuda Mala mantra

  • Start from any auspicious day like Ekadashi.
  • Worship your Guru and Lord Narayan before chanting the mantra.
  • Chant 11 mala of this mantra with Energized Sphatik Mala for 11 days.
  • On the 12th day, perform a havan of 1100 mantras with flowers mixed with cow ghee.
  • After that, chant 1 mala of this mantra daily with Energized Sphatik Mala.
  • After attaining mastery, one can give energized water to the patient to cure him of many diseases.
  • To remove black magic, take a flower and after chanting the mantra touch the forehead of the patient clockwise 11 times and throw it in the water.

Mala Mantra

ॐ नमो भगवते गरुडाय कालाग्निवर्णाय एह्येहि कालानललोलज्जिह्वाय पातय पातय मोहय मोहय विद्रावय विद्रावय भ्रम भ्रम
भ्रामय भ्रामय हन हन दह दह पच पच हुं फट् स्वाहा।

Om Namo Bhagwate Garuday Kalagnivarnay Ehiehi Kalanalloljihvay Patay Patay Mohay Mohay Vidravaya Vidravaya Bhram Bhram Bhramaya Brahmaya Han Han Deh Deh Pach Pach Hum Phat Swaha

Click Here For The Audio of the Garuda Mantra

गरुड़ माला मंत्र जो जीवन में में सभी प्रकार के संकटों से रक्षा करता है | और साधक के सभी शत्रुओं का नाश करता है |

गरुड़ पक्षी नायक है और भगवान विष्णु के वाहन हैं | गरुड़ भगवान् विष्णु का साक्षात् स्वरुप है | गरुड़ कृपा से मन्त्रिक स्वयं साक्षात् विष्णु स्वरुप बन जाता है |

इस मंत्र का नियमित जाप करने से साधक पर विष का भी असर नहीं होता |  यदि विष का भक्षण करे तो वह विष भी अमृत हो जाता है।

गरुड़ मंत्र के सिद्ध हो जाने पर स्थावर व् जङ्गम दोनों प्रकार के विष का नाश हो जाता है | विष्णुभक्ति में परायण जो मांत्रिक का नित्य पक्षीनायक गरुड़ को भजता है, उसके सर्वशत्रु पराभूत होते हैं।

वह सुख भोगता हुआ सौ वर्ष तक जीता है और उसे कोई भी व्याधि नहीं होती | और मृत्यु के उपरांत उसे विष्णु के सान्निध्य की प्राप्ति होती है।

प्रात:काल गरुड़ के इस मन्त्र का जप करने से साधक हिंसक जीवों की हिंसा का शिकार नहीं बनता। संग्राम व व्यवहार उसे विजयोपलब्धि दिलाता है। वह बंधनमुक्त होता है। यात्रा में उसे सिद्धि मिलती है।

गरुड़ पक्षियों के राजा और भगवान् विष्णु के वाहन है जो जीवन के सभी नाग पाशों से मुक्ति दिलाते हैं |

यह मन्त्र साधक के सभी संकटों का निवारण करता है | साधक की सभी समस्यायों का निराकरण करता है | और साधक को सुख, सौभाग्य, सम्पत्ति और ऐश्वर्या प्रदान करता है | इसके पुरश्चरण में मंत्र के दस हजार जप का विधान है।

साधक किसी शुभ मुहूर्त में इस मंत्र को सिध्ध कर सकता है | जप के दशांश का होम घी से मिश्रित फूलों से करना चाहिए।साधक को इस मन्त्र की 1 माला अवश्य जप करना चाहिए |

 

 


NewsLetter

New articles, upcoming events, showcase… stay in the loop!